728 x 90

Shani Dev Story : जब शनि देव के सामने भगवान शिव को हार माननी पड़ी?

Shani Dev Story : जब शनि देव के सामने भगवान शिव को हार माननी पड़ी?

Shani Dev Story : यह हम सभी जानते हैं कि भगवान शिव न्याय प्रिय देवता शनि देव के गुरू हैं लेकिन फिर भी क्या आप जानते हैं कि भगवान शिव को एक बार शनि देव के सामने झुकना पड़ा था। एक गुरू को अपने ही शिष्य के आगे हार माननी पडी थी। नहीं! तो आइए…

Shani Dev Story : यह हम सभी जानते हैं कि भगवान शिव न्याय प्रिय देवता शनि देव के गुरू हैं लेकिन फिर भी क्या आप जानते हैं कि भगवान शिव को एक बार शनि देव के सामने झुकना पड़ा था। एक गुरू को अपने ही शिष्य के आगे हार माननी पडी थी। नहीं! तो आइए आज हम आपको बताते हैं।

 

Shani Dev Story :पौराणिक कथा के अनुसार एक बार शनि देव भगवान शंकर के धाम हिमालय पहुंचे। उन्होंने अपने गुरुदेव भगवान शंकर को प्रणाम कर उनसे आग्रह किया, हे प्रभु! मैं कल आपकी राशि में आने वाला हूं अर्थात मेरी वक्र दृष्टि आप पर पड़ने वाली है। शनिदेव की बात सुनकर भगवान शंकर स्तब्ध रह गए और बोले, हे शनिदेव! आप कितने समय तक अपनी वक्र दृष्टि मुझ पर रखेंगे।

शनिदेव बोले, हे नाथ! कल सवा प्रहर के लिए आप पर मेरी वक्र दृष्टि रहेगी। शनिदेव की बात सुनकर भगवन शंकर चिंतित हो गए और शनि की वक्र दृष्टि से बचने के लिए उपाय सोचने लगे। यह तो हम सभी जानते हैं कि शनि की वक्र दृष्टि मुश्किलें उत्पन्न करती हैं ऐसे में स्वयं महादेव भी शनि की वक्र दृष्टि से बचने के लिए उपाय सोचने लगे। कहा जाता है कि शनि की दृष्टि से बचने हेतु अगले दिन भगवन शंकर मृत्युलोक आए। भगवान शंकर ने शनिदेव और उनकी वक्र दृष्टि से बचने के लिए एक हाथी का रूप धारण कर लिया। भगवान शंकर को हाथी के रूप में सवा प्रहर तक का समय व्यतीत करना पड़ा तथा शाम होने पर भगवान शंकर ने सोचा, अब दिन बीत चुका है और शनिदेव की दृष्टि का भी उन पर कोई असर नहीं होगा।

इसके उपरांत भगवान शंकर पुनः कैलाश पर्वत लौट आए। भगवान शंकर प्रसन्न मुद्रा में जैसे ही कैलाश पर्वत पर पहुंचे उन्होंने शनिदेव को उनका इंतजार करते पाया। भगवान शंकर को देख कर शनिदेव ने हाथ जोड़कर प्रणाम किया। भगवान शंकर मुस्कराकर शनिदेव से बोले,आपकी दृष्टि का मुझ पर कोई असर नहीं हुआ।

यह सुनकर शनि देव मुस्कराए और बोले, मेरी दृष्टि से न तो देव बच सकते हैं और न ही दानव यहां तक कि आप भी मेरी दृष्टि से बच नहीं पाए। यह सुनकर भगवान शंकर आश्चर्यचकित रह गए। शनिदेव ने कहा, मेरी ही दृष्टि के कारण आपको सवा प्रहर के लिए देव योनी को छोड़कर पशु योनी में जाना पड़ा इस प्रकार मेरी वक्र दृष्टि आप पर पड़ गई और आप इसके पात्र बन गए। शनि देव की न्यायप्रियता देखकर भगवान शंकर प्रसन्न हो गए और शनिदेव को हृदय से लगा लिया।

यह कथा से हमें यह भी संदेश मिलता है कि हमारे सामने चाहे कोई भी हो लेकिन हमें हमेशा सभी के लिए एक समान रहते हुए न्याय को ज्यादा महत्वता देनी चाहिए।

 

ऐसी और सभी खबरों के लिए बने रहिये हमारे साथ https://thenewzi.com और हमारा फेसबुक पेज को लाइक करे https://www.facebook.com/thenewzi . ट्विटर पर भी हमको अपना प्यार दे https://twitter.com/tnewzi

टॉप खबर

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

  • हॉट स्पॉट ज़ोन में ही आगे बढ़ेगा LOCKDOWN !

    हॉट स्पॉट ज़ोन में ही आगे बढ़ेगा LOCKDOWN !0

    लॉकडाउन(LOCKDOWN) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PM Narendra Modi) के साथ चर्चा में करीब 9 राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने अपनी बात रखी.   मुख्यमंत्रियों ने कहा कि पीएम मोदी आर्थिक कामकाज दोबारा शुरू कराना चाहते हैं, लेकिनदेशवासियो की जान की कीमत पर नहीं.   प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि लॉकडाउन(Lockdown) से काफी लाभ मिला है. राज्यों के…

    READ MORE
  • हॉकी में दुनिया के 100+ इंटरनेशनल गोल करने वाले 67 खिलाड़ियों में 5 भारतीय |

    हॉकी में दुनिया के 100+ इंटरनेशनल गोल करने वाले 67 खिलाड़ियों में 5 भारतीय |0

    हॉकी को ओलिंपिक में 1908 गेम्स में पहली बार शामिल किया गया था। इसके बाद से हॉकी खेल सभी ओलिंपिक में शामिल रहा। इस दौरान गोल के कई रिकॉर्ड बने। दुनिया के 67 खिलाड़ी 100+ गोल कर चुके हैं। इसमें 45 पुरुष और 22 महिला खिलाड़ी हैं। भारत के चार पुरुष, एक महिला खिलाड़ी ऐसा…

    READ MORE
  • हंदवाड़ा एनकाउंटर की पूरी कहानी : 6 दिन से पड़ी थी आतंकियों के पीछे सेना!

    हंदवाड़ा एनकाउंटर की पूरी कहानी : 6 दिन से पड़ी थी आतंकियों के पीछे सेना!1

    हंदवाड़ा एनकाउंटर : 28 अप्रैल को राजवारा के जंगलों में सुरक्षा बलों को आतंकियों के होने की जानकारी मिली. इसके बाद सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया. और 1 मई को दिन में 3 बजे पहली बार आतंकियों से आमना-सामना हुआ. जम्मू और कश्मीर के हंदवाड़ा में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में सेना के कर्नल, मेजर…

    READ MORE
  • स्कूटी से 1400 KM सफर तय कर बेटे को तेलंगाना लेकर लौटी मां

    स्कूटी से 1400 KM सफर तय कर बेटे को तेलंगाना लेकर लौटी मां0

    आंध्र प्रदेश के नेल्‍लोर (Nellore) में फंसे अपने बेटे को लाने के लिए मां रजिया बेगम ने साहस और हिम्‍मत का परिचय दिया। निजामाबाद के बोधन से उन्‍होंने दो पहिए से 1,400 किलोमीटर की दूरी तय की ताकि अपने बेटे को वापस ला सकें। इस घटना ने उस कहावत को चरितार्थ कर दिया जिसमें कहा…

    READ MORE
  • सलमान ने कहा ”जो डर गया समझो बच गया”

    सलमान ने कहा ”जो डर गया समझो बच गया”0

    कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सोशल डिस्टेंसिंग सबसे बड़ा हथियार बनकर उभरा है. इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए ही देश में 21 दिन का लॉकडाउन लगाया गया है. इस संकट की गंभीरता को समझने वाले घरों में बंद होकर नियमों का पूरी तरह पालन कर रहे हैं. वहीं, कुछ ऐसे भी हैं…

    READ MORE
  • शोएब अख्तर की पीएम मोदी से गुहार, मदद कर मोदी जी वरना मर जाएंगे

    शोएब अख्तर की पीएम मोदी से गुहार, मदद कर मोदी जी वरना मर जाएंगे0

    शोएब अख्तर की पीएम मोदी से गुहार, मदद कर मोदी जी वरना मर जाएंगे दुनिया भर में कोरोनावायरस का प्रकोप लगातार कहर बरपता जा रहा है। भारत का पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी कोरोना की चपेट से अछूता नहींं है। ऐसे में पाकिस्तान अब भारत समेत दूसरे देशोंं से मदद की गुहार लगा रहा है। उनकी…

    READ MORE

Latest Posts

Top Authors

Most Commented

Featured Videos