728 x 90

Cricket : इस क्रिकेटर के हैरतअंगेज रिकॉर्ड, गोली मारकर की थी खुदकुशी

Cricket : इस क्रिकेटर के हैरतअंगेज रिकॉर्ड, गोली मारकर की थी खुदकुशी

Cricket : ऑस्ट्रेलिया में पैदा हुए इस ऑलराउंडर ने 41 साल की उम्र में खुद को गोली मार ली थी. लेकिन आज भी ट्रॉट के हैरतअंगेज कारनामे रोमांचित करते हैं.   मौजूदा दौर में अलबर्ट ट्रॉट का नाम भले ही अनजाना-सा लगता हो, लेकिन इस क्रिकेटर के नाम बड़े चौंकाने वाले रिकॉर्ड हैं. हैरानी वाली…

Cricket : ऑस्ट्रेलिया में पैदा हुए इस ऑलराउंडर ने 41 साल की उम्र में खुद को गोली मार ली थी. लेकिन आज भी ट्रॉट के हैरतअंगेज कारनामे रोमांचित करते हैं.

 

मौजूदा दौर में अलबर्ट ट्रॉट का नाम भले ही अनजाना-सा लगता हो, लेकिन इस क्रिकेटर के नाम बड़े चौंकाने वाले रिकॉर्ड हैं. हैरानी वाली बात तो यह है कि ऑस्ट्रेलिया में पैदा हुए इस ऑलराउंडर ने 41 साल की उम्र में खुद को गोली मार ली थी. लेकिन आज भी ट्रॉट के हैरतअंगेज कारनामे रोमांचित करते हैं.

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दोनों के लिए टेस्ट Cricket खेला

 

करिश्माई क्रिकेटर ट्रॉट का टेस्ट करियर महज पांच टेस्ट मैच का रहा. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दोनों के लिए टेस्ट क्रिकेट(Test Cricket) खेला. (3 टेस्ट ऑस्ट्रेलिया और 2 टेस्ट इंग्लैंड की ओर से). ट्रॉट ने जनवरी 1895 में एडिलेड में इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू किया था.

टेस्ट डेब्यू- एक पारी में 8 विकेट लेने वाले पहले बॉलर

 

ट्रॉट अपने पहले ही टेस्ट की एक पारी में 8 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज बन गए. उनके बाद से डेब्यू टेस्ट की पारी में अबतक 8 गेंदबाजों ने 8-8 विकेट झटके हैं. लेकिन सबसे कम रन देकर 8 विकेट लेने का रिकॉर्ड आज भी दाहिने हाथ के स्लो बॉलर ट्रॉट के नाम है. देखिए ये लिस्ट-

 

TOP-3 : डेब्यू टेस्ट- एक पारी में सबसे किफायती 8 विकेट लेने वाले

 

1. अलबर्ट ट्रॉट (ऑस्ट्रेलिया) : 27 ओवर, 10 मेडन, 43 रन, 8 विकेट, 1895 (विरुद्ध इंग्लैंड- एडिलेड)

2. बॉब मेसी (ऑस्ट्रेलिया) : 27.2 ओवर, 9 मेडन, 53 रन, 8 विकेट, 1972 (विरुद्ध इंग्लैंड- लॉर्ड्स)

3. नरेंद्र हिरवानी (भारत) : 18.3 ओवर, 3 मेडन, 61 रन, 8 विकेट, 1988 (विरुद्ध वेस्टइंडीज- चेन्नई)

… तो इसलिए ऑस्ट्रेलिया छोड़कर इंग्लैंड चले गए

 

अलबर्ट ट्रॉट ने ऑस्ट्रेलिया की ओर से तीन टेस्ट में 102.50 की औसत से रन बनाए. फिर भी ऑस्ट्रेलियाई सलेक्टर्स ने उन्हें तवज्जो नहीं दी और 1896 के दौरे के लिए टीम में नहीं चुना. इसके बावजूद ट्रॉट ने हिम्मत नहीं हारी और वह खुद के खर्च पर इंग्लैंड चले गए. जहां उन्हें काउंटी क्रिकेट में मिडिलसेक्स की तरफ से खेलने का मौका मिल गया. इसी के बाद 1899 में ट्रॉट ने इंग्लैंड की ओर से दक्षिण अफ्रीका में 2 टेस्ट खेले.

लॉर्ड्स में सबसे बड़ा छक्का लगाने वाले एकमात्र क्रिकेटर

 

1899 में जब ऑस्ट्रेलिया की टीम इंग्लैंड दौरे पर आई तो ट्रॉट ने जबर्दस्त धमाका किया. दरअसल, लॉर्ड्स में 31 जुलाई को एमसीसी और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए मैच में ट्रॉट ने ऑस्ट्रेलिया के मॉन्टी नोबल की गेंद पर ऐसा छक्का जमाया कि इतिहास बना गया. ट्रॉट लॉर्ड्स के पवेलियन के ऊपर से छक्का (120 मीटर) जड़ने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं.

प्रथम श्रेणी क्रिकेट की एक पारी में दो हैट्रिक का कारनामा

 

1892-1910 के दौरान ट्रॉट ने 375 प्रथम श्रेणी मैच खेले. विक्टोरिया और मिडिलसेक्स उनकी टीमें रहीं. उन्होंने 21.09 की औसत से 1674 विकेट लिए. मिडिलसेक्स ने 1907 में ट्रॉट का बेनिफिट मैच कराया, समरसेट के खिलाफ लॉर्ड्स में ट्रॉट का चमत्कारी प्रदर्शन आज भी हैरान करता है. दरअसल, ट्रॉट प्रथम श्रेणी की एक ही पारी में दो हैट्रिक लेने वाले पहले गेंदबाज बन गए थे.

-मैच के तीसरे दिन समरसेट को जीत के लिए 264 रन चाहिए थे. उम्मीद थी कि इस बेनिफिट मैच के आखिरी दिन दोपहर बाद दर्शक जुटेंगे. लेकिन वह मैच ट्रॉट की एक के बाद एक – दो हैट्रिक की वजह से बहुत जल्दी खत्म हो गया. ट्रॉट के लिए धन नहीं उगाहा जा सका. यानी ट्रॉट ने खुद का घाटा करा लिया.

-हुआ यूं कि समरसेट की टीम ने लक्ष्य का पीछा करते हुए 77/2 रन बनाए थे. ट्रॉट ने हैट्रिक ली और स्कोर 77/6 हो गया. इसके बाद स्कोर 97/7 रन था, तो एक बार फिर ट्रॉट ने हैट्रिक लेकर पूरी टीम समेट दी. ट्रॉट का गेंदबाजी विश्लेषण रहा- 8-2-20-7.

रोचक FACT

 

अलबर्ट ट्रॉट के बाद प्रथम श्रेणी क्रिकेट की पारी में दो हैट्रिक लेने का कारनामा जोगिंदर राव ने किया. 1963-64 में नॉर्दर्न पंजाब के खिलाफ अमृतसर में उन्होंने अपने दूसरे मैच में ही यह उपलब्धि हासिल की. सेना की ओर से खेलते हुए जोगिंदर ने दिल्ली में जम्मू-कश्मीर के खिलाफ डेब्यू में भी हैट्रिक ली थी.

बीमारी के बाद डिप्रेशन में चले गए थे, खुदकुशी की

 

ट्रॉट पहले ही टेस्ट खेलने की होड़ से बाहर थे. 1910 में उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट से भी खुद को अलग कर लिया और अंपायरिंग में हाथ आजमाया. इस बीच वह ड्रॉप्सी (जलोदर- पेट में पानी भरना) नामक बीमारी के शिकार हुए. धीरे-धीरे ट्रॉट ज्यादा शराब पीने लगे. इसके बाद लगातार डिप्रेशन में रहे. आखिरकार ट्रॉट ने 30 जुलाई 1914 को खुद को पिस्टल से गोली मार ली.

ऐसी और सभी खबरों के लिए बने रहिये हमारे साथ https://thenewzi.com और हमारा फेसबुक पेज को लाइक करे https://www.facebook.com/thenewzi . ट्विटर पर भी हमको अपना प्यार दे https://twitter.com/tnewzi

thenewzi.hindi
ADMINISTRATOR
PROFILE

टॉप खबर

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *

  • हॉट स्पॉट ज़ोन में ही आगे बढ़ेगा LOCKDOWN !

    हॉट स्पॉट ज़ोन में ही आगे बढ़ेगा LOCKDOWN !0

    लॉकडाउन(LOCKDOWN) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PM Narendra Modi) के साथ चर्चा में करीब 9 राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने अपनी बात रखी.   मुख्यमंत्रियों ने कहा कि पीएम मोदी आर्थिक कामकाज दोबारा शुरू कराना चाहते हैं, लेकिनदेशवासियो की जान की कीमत पर नहीं.   प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि लॉकडाउन(Lockdown) से काफी लाभ मिला है. राज्यों के…

    READ MORE
  • हॉकी में दुनिया के 100+ इंटरनेशनल गोल करने वाले 67 खिलाड़ियों में 5 भारतीय |

    हॉकी में दुनिया के 100+ इंटरनेशनल गोल करने वाले 67 खिलाड़ियों में 5 भारतीय |0

    हॉकी को ओलिंपिक में 1908 गेम्स में पहली बार शामिल किया गया था। इसके बाद से हॉकी खेल सभी ओलिंपिक में शामिल रहा। इस दौरान गोल के कई रिकॉर्ड बने। दुनिया के 67 खिलाड़ी 100+ गोल कर चुके हैं। इसमें 45 पुरुष और 22 महिला खिलाड़ी हैं। भारत के चार पुरुष, एक महिला खिलाड़ी ऐसा…

    READ MORE
  • हंदवाड़ा एनकाउंटर की पूरी कहानी : 6 दिन से पड़ी थी आतंकियों के पीछे सेना!

    हंदवाड़ा एनकाउंटर की पूरी कहानी : 6 दिन से पड़ी थी आतंकियों के पीछे सेना!1

    हंदवाड़ा एनकाउंटर : 28 अप्रैल को राजवारा के जंगलों में सुरक्षा बलों को आतंकियों के होने की जानकारी मिली. इसके बाद सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया. और 1 मई को दिन में 3 बजे पहली बार आतंकियों से आमना-सामना हुआ. जम्मू और कश्मीर के हंदवाड़ा में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में सेना के कर्नल, मेजर…

    READ MORE
  • स्कूटी से 1400 KM सफर तय कर बेटे को तेलंगाना लेकर लौटी मां

    स्कूटी से 1400 KM सफर तय कर बेटे को तेलंगाना लेकर लौटी मां0

    आंध्र प्रदेश के नेल्‍लोर (Nellore) में फंसे अपने बेटे को लाने के लिए मां रजिया बेगम ने साहस और हिम्‍मत का परिचय दिया। निजामाबाद के बोधन से उन्‍होंने दो पहिए से 1,400 किलोमीटर की दूरी तय की ताकि अपने बेटे को वापस ला सकें। इस घटना ने उस कहावत को चरितार्थ कर दिया जिसमें कहा…

    READ MORE
  • सलमान ने कहा ”जो डर गया समझो बच गया”

    सलमान ने कहा ”जो डर गया समझो बच गया”0

    कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सोशल डिस्टेंसिंग सबसे बड़ा हथियार बनकर उभरा है. इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए ही देश में 21 दिन का लॉकडाउन लगाया गया है. इस संकट की गंभीरता को समझने वाले घरों में बंद होकर नियमों का पूरी तरह पालन कर रहे हैं. वहीं, कुछ ऐसे भी हैं…

    READ MORE
  • शोएब अख्तर की पीएम मोदी से गुहार, मदद कर मोदी जी वरना मर जाएंगे

    शोएब अख्तर की पीएम मोदी से गुहार, मदद कर मोदी जी वरना मर जाएंगे0

    शोएब अख्तर की पीएम मोदी से गुहार, मदद कर मोदी जी वरना मर जाएंगे दुनिया भर में कोरोनावायरस का प्रकोप लगातार कहर बरपता जा रहा है। भारत का पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी कोरोना की चपेट से अछूता नहींं है। ऐसे में पाकिस्तान अब भारत समेत दूसरे देशोंं से मदद की गुहार लगा रहा है। उनकी…

    READ MORE

Latest Posts

Top Authors

Most Commented

Featured Videos